मोहम्मद रफी साहब के पैर पकड़कर जब खूब रोए किशोर दा, संभालना हो गया था मुश्किल, पल भर में दूर हुईं गलतफहमियां

hindinewsviral.com
3 Min Read

[ad_1]

मुंबई. फिल्मी दुनिया में सिर्फ दो सितारों के बीच ही कम्पीटिशन की खबरें नहीं आती हैं. कई बार संगीतकारों और गायकों को लेकर भी इस तरह की चर्चा होती रहती है. बीते दौर के दो महान गायक मोहम्मद रफी और किशोर कुमार के बीच भी प्रतिस्पर्धा को लेकर खूब बातें होती थीं. कहा जाता था कि किशोर दा, रफी साहब के साथ गीत नहीं गाना चाहते थे. हालांकि दोनों की गायिकी का अंदाज बिलकुल जुदा था और दोनों की आपस में तुलना करना बेमानी है. बाहरी दुनिया की बातों से दूर एक दफा किशोर कुमार, र​फी साहब के पैर पकड़कर खूब रोए थे और उन्हें संभालना मुश्किल हो गया था.

मोहम्मद रफी और किशोर कुमार बॉलीवुड के खास हीरे कहे जा सकते हैं. दोनों ने ही एक से बढ़कर एक गाने फिल्मी दुनिया को दिए हैं. आज ही इनके गाए गाने सदाबहार हैं. लेकिन फिल्मी गलियारों में अक्सर यह बात होती थी कि किशार दा, रफी साहब को पसंद नहीं करते थे. वहीं, दोनों को लेकर फिल्मी दुनिया में कई किस्से भी मौजूद हैं.

kishore kumar mohammed rafi, kishore kumar mohammed rafi bonding, kishore kumar mohammed rafi rivalry, किशोर कुमार क्यों प्रसिद्ध है, किशोर कुमार की आखिरी फिल्म कौन सी थी, किशोर कुमार की पत्नी कितनी है, किशोर का असली नाम क्या है, kishore kumar, kishore kumar spouse, kishore kumar ek ladki bheegi bhaagi si, kishore kumar koi humdum na raha kishore kumar son, kishore kumar phir suhani sham dhali, kishore kumar death reason, kishore kumar last song, kishore kumar wikipedia, rafi singer, mohammad rafi ke, rafi name, bilquis rafi, shahid rafi, mohammed rafi son, mohammed rafi first wife, mohammed rafi wife

Rafi and Kishore

खुद को संभाल नहीं सके किशोर दा
किशोर दा के बेटे अमित कुमार ने अपने एक इंटरव्यू में र​फी और किशोर के बीच दुश्मनी को सिरे से नकार दिया था. उनके अनुसार, दोनों ही एक दूसरे का बहुत सम्मान करते थे और किशोर दा, रफी साहब को बड़े भाई जैस मानते थे. जब किशोर दा, रफी के साथ उनकी खींचतान की खबरें पढ़ा करते थे तो खूब हंसा करते थे. अमित कुमार के अनुसार, 31 जुलाई 1980 का दिन किशोर दा के लिए बेहद भारी था. इसी दिन 55 साल की उम्र में रफी साहब ने दुनिया को अलविदा कह दिया था. जब किशोर दा, रफी साहब के घर पहुंचे तो उन्हें देखकर खुद को रोक ना सके. किशोर दा ने रफी साहब के पैर पकड़े और फूट फूटकर रोने लगे. किशोर दा को संभालना काफी मुश्किल हो गया था और उन्हें देखकर हर किसी की आंखें नम थीं.

‘आप बस धुन बनाइए, बाकी मैं देख लूंगा’, रफी साहब ने जब चुटकियों में दूर की समस्या, 1 ही शब्द को 17 तरीके से गाया

साथ ही वो सब गलतफहमियां भी लोगों के मन से दूर हो गई थीं कि किशोर दा और रफी साहब के बीच बॉन्डिंग नहीं थी. बता दें, रफी का जन्म 24 दिसम्बर 1924 को हुआ था. वहीं, किशोर कुमार का जन्म 4 अगस्त 1929 को हुआ था. किशोर दा का निधन 13 अक्टूबर 1987 को हुआ था.

Tags: Entertainment Special, Kishore kumar, Mohammad Rafi

[ad_2]

Source link

Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *