Animal को लेकर क्या बोले अदनान सामी? की ‘शोले’ और ‘दीवार’ से तुलना, रणबीर कपूर के किरदार पर भी किया कमेंट

hindinewsviral.com
3 Min Read

[ad_1]

मुंबई. रणबीर कपूर स्टारर ‘एनिमल’ को ऑडियंस और क्रिटिक्स से मिली-जुली प्रतिक्रिया मिल रही है. कुछ लोग इसे बिल्कुल नया कंटेंट बता रहे हैं, तो कुछ लोगों का कहना है कि इसमें बहुत ज्यादा वायलेंस और पुरुषवादी सोच को बढ़ावा देने वाली फिल्म है. इन सबके बीच, सिंगर अदनान सामी ने प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने फिल्म और इसके डायरेक्टर संदीप रेड्डी वांगा के बचाव किया है. इतना ही नहीं, उन्होंने अमिताभ बच्चन की फिल्मों- दीवार, अमर अकबर एंथोनी और शोले जैसी फिल्मों के साथ तुलना भी की है.

अदनान शामी ने “आप लोग प्लीज ज्यादा विश्लेषण, ज्यादा सोचना और ‘नैतिक-पुलिसिंग’ वाली फिल्मों को बंद कर सकते हैं? यह सिर्फ एक फिल्म है!!! यह एक कल्पना है.. .यह मनोरंजन है!! अगर आप तर्क खोज रहे हैं तो मुझे ‘अमर अकबर एंथोनी’ में दिखाए गए अतार्किक रक्तदान सीन के पीछे का तर्क भी बताएं. एक मां के तीन बेटे एक ही समय में एक ही ट्यूब के जरिए उसे ब्लड डोनेट करते हैं! यह एक कल्ट फिल्म है.”

अदनान सामी ने आगे लिखा, “यह सही भी है क्योंकि हम सभी इसे पसंद करते हैं! ‘दीवार’ में दिखाई गई नैतिकता या ‘शोले’ में ठाकुर द्वारा केवल पैरों और बिना हाथों के गब्बर को पीटने के पीछे के तर्क को स्पष्ट करें!! वह भी यही है एक अविश्वसनीय क्लासिक जिसे हम पसंद करते हैं!! ‘द गॉडफादर’ ने हमें फिर से बुरे लोगों के पक्ष में खड़ा कर दिया है… क्वेंटिन टारनटिनो को एक प्रतिभाशाली व्यक्ति माना जाता है जिसने खून-खराबे से अपना करियर बनाया है!! हमें स्कारफेस में अल पचिनो बहुत पसंद आया!!”

Adnan Sami On Animal

अदनान सामी की पोस्ट. (फोटो साभारः Instagram @adnansamiworld)

अदनान सामी ने आगे लिखा, “अगर किसी फिल्म को ‘ए’ रेटिंग दी जाती है तो इसका मतलब है कि केवल एक एडल्ट ही इसे देख सकता है क्योंकि एक एडल्ट इतना परिपक्व और शिक्षित है कि वह समझ सके कि क्या सही है और नैतिक रूप से गलत है और इस प्रकार फिल्म के कंटेंट से नेगेटिव प्रभाव या प्रभाव नहीं पड़ेगा! तो बस शांत होकर फिल्म देखें; मनोरंजन करें और घर जाएं!”

अदनान सामी ने आगे लिखा,”और, नहीं, मैंने अभी तक ‘एनिमल’ नहीं देखी है, लेकिन हमेशा सही का बचाव करूंगा एक रचनात्मक कलाकार को ‘कला’ के किसी भी रूप में अपनी बात को जाहिर करने का अधिकार है. एक दर्शक के रूप में इसे पसंद करने या रिजेक्ट करने का अधिकार है! लेकिन हम सभी के लिए एक साथ सह-अस्तित्व रखना महत्वपूर्ण है ‘जियो और जीने दो’ नीति!! कोई भी आपको कुछ भी देखने या सुनने के लिए मजबूर नहीं कर रहा है; इसी तरह दूसरों पर अपनी राय न थोपें, यह सिर्फ एक फिल्म है!!!”

Tags: Adnan Sami, Ranbir kapoor

[ad_2]

Source link

Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *