चुनाव नतीजों के बाद F&O ट्रेडिंग में ये होंगी 2 सबसे अच्छी रणनीतियां : शुभम अग्रवाल

hindinewsviral.com
4 Min Read

[ad_1]

हम 5 राज्यों के चुनाव परिणामों की प्रतीक्षा कर रहे हैं। ऐसे में इंडिया VIX में हलचल पहले से ही बढ़ना शुरू हो गई है। यह 2023 की दूसरी छमाही के उच्चतम स्तर के आसपास है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि इंडिया VIX बाजार की अगले 30 दिनों की वोलैटिलिटी का इंडिकेटर होता है। हालांकि हम सभी ने चुनावों की स्थितियों को ध्यान में रखते हुए अपने दांव लगाये होंगे। लेकिन चुनावों के बाद के लिए रणनीति बनाना भी उतना ही महत्वपूर्ण है। शुभम अग्रवाल ने चुनाव के बाद की अवधि के दौरान निम्नलिखित 2 रणनीतियां सुझाई हैं।

1 ऑप्शंस में स्टैगर्ड बाईंग

मान लीजिए कि एक डायरेक्शन तय है। कोई मानता है कि अभी भी उसी डायरेक्शन में एक लंबा रास्ता तय करना बाकी है। इसलिए ऑप्शन खरीदारी का रास्ता अपनाने की सलाह दी जाती है। याद रखें कि कुछ चुनाव परिणामों के चलते बाजारों ऊपर की ओर गये हैं और वहां टिक गये हैं।

ऐसे मामले में असीमित मुनाफे की रणनीति अपनाना हमेशा एक अच्छा आइडिया होता है। हालांकि ऑप्शन खरीदना या बेचना समान रूप से जोखिम भरा हो सकता है। याद रखें कि इसमें मूव इतना तेज होने का एक कारण यह है कि ट्रेडर्स जल्दबाजी में खरीदी या बिक्री कर रहे होते हैं। यह इस मूव को समान रूप से अविश्वसनीय बनाता है क्योंकि यह मूव टिकाऊ नहीं होता है।

दूसरी ओर, जैसा कि हमने चुनावों से पहले इंडिया VIX को ऊपर जाते देखा है। इस इवेंट के बाद इंडिया VIX और अपेक्षित वोलैटिलिटी कम हो जाएगी। इससे ऑप्शन प्रीमियम पर बड़ा दबाव पड़ेगा। स्टॉक या इंडेक्स में किसी भी एक्शन के बिना, इवेंट बीत जाने पर प्रीमियम कम हो जाता है। यह एक ऐसा नुकसान हो सकता है जिसके लिए ट्रेडर खुद जिम्मेदार होगा

Bharti Airtel में भारती टेलीकॉम ने 8,301 करोड़ रुपये की अतिरिक्त हिस्सेदारी खरीदी

सॉल्यूशन: कम से कम 3 पार्ट में ऑप्शन खरीदें। हायर स्ट्राइक कॉल/लोअर स्ट्राइक पुट के साथ पहला पार्ट खरीदें। इसमें मुनाफा होने पर ही अगले 2 लॉट खरीदें।

इससे ट्रेड में स्टेक के साथ-साथ सस्ता सौदा हासिल करने में भी मदद मिलेगी। वहीं इंतजार करने पर हमें न्यूनतम जोखिम प्रीमियम के साथ बेहतर प्राइस मिलेगी। QUANTSAPP PRIVATE LIMITED के शुभम अग्रवाल ने कहा कि मेरे पास कॉल्स के ऐसे उदाहरण हैं जब इंडेक्स में वृद्धि के बावजूद दोनों ऑप्शन एक ही प्राइस पर आ गये हैं।

2 क्लोजर स्ट्राइक प्रोटेक्टेड ऑप्शन रायटिंग (सेलिंग)

हमने देखा है कि अपेक्षित वोलैटिलिटी कम होने के कारण ऑप्शन प्रीमियम कम हो जाते हैं। अत: राइटिंग फायदेमंद होगी। हालांकि ऑप्शन खरीदारी में जो डायरेक्शन फायदेमंद थी, वह अब नुकसानदेह बन गई है। लेकिन इसका भी एक सॉल्यूशन है।

दूर की कॉल या पुट बेचने की बजाय, नजदीकी कॉल या पुट बेचें। साथ ही थोड़ा हायर कॉल या थोड़ा लोअर पुट खरीदकर इसे प्रोटेक्ट करें।

उदाहरण के लिए:

Do not Sell 102.5 Call / 98.5 Put,

Sell 100 Call / 100 Put + Buy 105 Call / 95 Put

इसके फायदे:

1. इस प्रकार प्राप्त प्रीमियम यदि ज्यादा नहीं रहा तो आम तौर पर समान होगा ।

2. लोअर मार्जिन में प्रोटेक्शन बेनिफिट के कारण निवेश भी कम होगा।

3. अंत में, यदि डायरेक्शन आक्रामक रूप से गलत मोड़ लेता है, तो हम हमें सीमित नुकसान ही होगा।

(डिस्क्लेमरः Moneycontrol.com पर दिए जाने वाले विचार और निवेश सलाह निवेश विशेषज्ञों के अपने निजी विचार और राय होते हैं। Moneycontrol यूजर्स को सलाह देता है कि वह कोई निवेश निर्णय लेने के पहले सर्टिफाइड एक्सपर्ट से सलाह लें।)

[ad_2]

Source link

Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *