SRK regrets ‘Kabhi Alvida Na Kehna’, karan johar, shahrukh khan, ott platforms, kabhi alvida naa kehna , interview | SRK की ‘कभी अलविदा ना कहना’ से है पछतावा: करण बोले- मौका मिला तो गलती सुधारना चाहूंगा, ओटीटी के बारे में भी बात की

hindinewsviral.com
4 Min Read

[ad_1]

10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

करण जौहर ने हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान शाहरुख खान स्टारर फिल्म ‘कभी अलविदा ना कहना’ के बारे में एक खुलासा किया है। उन्होंने इस फिल्म पर अफसोस जताया और कहा कि अगर मौका मिला तो मैं अपनी गलती सुधारना चाहूंगा। इतना ही नहीं फिल्ममेकर ने ओटीटी प्लेटफॉर्म के बारे में भी अपनी राय दी।

'कभी अलविदा ना कहना' साल 2006 में रिलीज हुई थी।

‘कभी अलविदा ना कहना’ साल 2006 में रिलीज हुई थी।

करण अपनी गलती सुधारना चाहते हैं
करण जौहर बॉलीवुड के पॉपुलर फिल्ममेकर हैं। करण अक्सर अपने बयानों के लिए सुर्खियों में बने रहते हैं। ऐसे में एक इंटरव्यू में बातचीत के दौरान उनसे पूछा गया कि अगर उन्हें मौका मिले तो करण अपनी किस फिल्म को सुधारना चाहेंगे। इस पर करण जौहर ने ‘कभी अलविदा ना कहना’ का नाम लिया। उन्होंने कहा- मुझे शाहरुख खान और रानी मुखर्जी स्टारर साल 2006 में रिलीज हुई फिल्म ‘कभी अलविदा ना कहना’ को बनाने का पछतावा है। मैं फ्यूचर में इस फिल्म का रीमेक बनाना चाहता हूं। मैंने इस फिल्म को बनाने में कई गलतियां की थीं। अगर चांस मिला तो गलतियों को सुधारकर फिल्म को और बेहतर तरीके से बनाऊंगा।

'कभी अलविदा ना कहना' साल 2006 की चौथी सबसे सफल फिल्म थी।

‘कभी अलविदा ना कहना’ साल 2006 की चौथी सबसे सफल फिल्म थी।

फिल्म में एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर दिखाया गया था
‘कभी अलविदा ना कहना’ एक मल्टीस्टारर फिल्म थी। इस फिल्म में शाहरुख खान, रानी मुखर्जी के साथ अमिताभ बच्चन, अभिषेक बच्चन, प्रीति जिंटा भी नजर आए थे। गेस्ट अपीयरेंस के तौर पर काजोल भी फिल्म के एक सॉन्ग में थिरकती दिखी थीं। क्रिटिक्स और कुछ लोगी ने फिल्म की बुराई भी की थी। लेकिन फिर भी मिक्स्ड रिव्यूज के बाद भी ये फिल्म साल 2006 की चौथी सबसे सफल फिल्म बनी थी। ‘कभी अलविदा ना कहना’ में शादीशुदा कपल के बीच तनाव और एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की तरफ झुकाव दिखाया गया था।

ओटीटी प्लेटफॉर्म में पैसा कमाने के लिए आपको 10 चीजें बनानी होंगी
करण जौहर थीएटर के साथ-साथ ओटीटी प्लेटफॉर्म के लिए भी फिल्में बनाते हैं। उन्होंने कहा- ओटीटी प्लेटफॉर्म के पास ये अधिकार होता है कि थीएट्रिकल रिलीज के बाद वो फिल्म को अपने प्लेटफॉर्म पर दिखाना चाहते हैं या नहीं। उन्हें स्क्रिप्ट पढ़ने, फिल्म देखने और फिल्म रिलीज के बाद सारे चुनाव करने के अधिकार मिलते हैं। थीएट्रिकल फिल्म बनाने के बाद स्ट्रीमर्स (ओटीटी प्लेटफॉर्म) के पास जाना ज्यादा लाभदायक है।

जब आप एक डिजिटल फिल्म बनाते हैं तो आपको प्रॉफिट का कुछ परसेंटेज मिलता है। परसेंटेज मिलता जरूर है, लेकिन वो बहुत ज्यादा नहीं होता है। डिजिटल एक वॉल्यूम गेम है। वास्तव में पैसा कमाने के लिए आपको 10 चीजें बनानी होंगी। अगर मैं ओटीटी के लिए साल में सिर्फ एक शो या एक फिल्म बनाता हूं, तो मुझे उतना ज्यादा फायदा नहीं होगा।

करण जौहर सलमान खान के साथ 'द बुल' को लेकर चर्चा में हैं।

करण जौहर सलमान खान के साथ ‘द बुल’ को लेकर चर्चा में हैं।

करण जौहर और सलमान साथ काम कर सकते हैं
करण जौहर ने 7 साल के बाद पिछले साल ‘रॉकी और रानी की प्रेम कहानी’ बनाई थी। रणवीर सिंह और आलिया भट्ट स्टारर इस फिल्म ने जबरदस्त कमाई की थी। वहीं अब करण जौहर सलमान खान के साथ ‘द बुल’ को लेकर चर्चा में हैं।

[ad_2]

Source link

Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *