Sensex-Nifty: निफ्टी से कैसे पीछे रह गया सेंसेक्स? अदाणी ग्रुप के 2 शेयरों ने लाया बड़ा अंतर

hindinewsviral.com
4 Min Read

[ad_1]

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) का बेंचमार्क इंडेक्स निफ्टी (Nifty 50) शुक्रवार 1 दिसंबर को अपने सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया। मजबूत ग्लोबस संकेत, सितंबर तिमाही में GDP के शानदार आंकड़े, डॉलर इंडेक्स में गिरावट और विदेशी निवेशकों की वापसी से दलाल स्ट्रीट के बुल्स गैंग का जोश हाई है। इनकी खरीदारी ने ही निफ्टी को रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचा दिया। हालांकि इसका समकक्ष इंडेक्स, बीएसई सेंसेक्स (BSE Sensex) नए शिखर को छूने की इस रेस में पिछड़ गया है। सेंसेक्स अभी भी अपने सर्वकालिक शिखर से करीब 450 अंक दूर है।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी शुक्रवार को 134.75 अंक यानी 0.67 प्रतिशत की बढ़त के साथ 20,267.90 अंक पर बंद हुआ। दूसरी ओर सेंसेक्स 492.75 अंक या 0.74 प्रतिशत की बढ़त के साथ 67,481.19 अंक पर बंद हुआ।

इन दोनों बेंचमार्क इंडेक्सों के शिखर पर पहुंचने की रफ्तार में जो अतंर आया है, उसके पीछे मुख्य कारण अदाणी ग्रुप के शेयर और होरी मोटोकॉर्प हैं। यह दोनों निफ्टी इंडेक्स का हिस्सा हैं, लेकिन ये सेंसेक्स में शामिल नहीं है। हाल के दिनों में इन शेयरों में जबरदस्त तेजी आई है, जो निफ्टी को अधिक रफ्तार से ऊपर ले गए हैं।

बता दें कि BSE Sensex में मार्केट कैपिटलाइजेशन के हिसाब से देश की 30 सबसे बड़ी कंपनियां आती है। वहीं निफ्टी में 50 सबसे बड़ी कंपनियों को जगह दी है। यानी निफ्टी इंडेक्स में सेंसेक्स से 20 शेयर अधिक होते हैं।

यह भी पढ़ें- एग्जिट पोल के नतीजे देख शेयर बाजार का जोश हाई, निफ्टी ने बनाया नया रिकॉर्ड

एलियॉस फाइनैंशियल सर्विसेज (Elios Financial Services) के इंस्टीट्यूशनल ब्रोकिंग हेड शाम चांडक ने कहा, “सेंसेक्स से गायब 20 शेयरों में से कुछ का प्रदर्शन हाल में शानदार रहा है, जो निफ्टी के नए शिखर पर जाने का मुख्य कारण है।”

24 नवंबर के बाद से निफ्टी का सबसे ज्यादा चढ़ने वाला शेयर हीरो मोटोकॉर्प है, लेकिन यह सेंसेक्स में नहीं है। आर्थिक रिकवरी और आगामी शादी सीजन के कारण दोपहिया वाहनों की मांग मजूबत रहने की उम्मीद है। इसके चलते पिछले सप्ताह से कंपनी का शेयर 7 प्रतिशत से अधिक चढ़ चुका है।

हीरो मोटोकॉर्प के अलावा अडानी समूह के दो शेयर अडानी एंटरप्राइजेज और अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकनॉमिक जोन भी पिछले सप्ताह क्रमश: 6 फीसदी और 4 फीसदी चढ़े थे। ये दोनों निफ्टी का हिस्सा हैं, लेकिन सेंसेक्स का नहीं।

अदाणी ग्रुप से जुड़े मामले में सुप्रीम कोर्ट ने इस सप्ताह की शुरुआत में अपना फैसला सुरक्षित रखा था। कोर्ट ने कहा था कि वह सिर्फ अमेरिकी शॉर्ट-सेलर हिंडनबर्ग के आरोपों के आधार पर और उसके आदेश से प्रभावित होने वाली संस्थाओं की बात सुने बिना जांच का आदेश नहीं दे सकता है।

यह भी पढ़ें- तीन दिन में 15% टूट गया Thomas Cook, इस ऑफर ने बढ़ा दी शेयरों की बिकवाली

इसके अलावा तेल की कीमतों में गिरावट से हाल में न केवल ऑयल मार्केटिंग कंपनियों को शेयर बढ़ा है। बल्कि FMCH क्षेत्र की बड़ी कंपनियों को भी लागत कम होने से लाभ हुआ है। इसके चलते BPCL और ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज ने भी पिछले सप्ताह निफ्टी के टॉप गेनर्स शेयरों की सूची में जगह बनाई। दोनों शेयरों में 6 प्रतिशत और 5 प्रतिशत की तेजी आई, लेकिन ये भी सेंसेक्स का हिस्सा नहीं थे।

हालांकि, सेंसेक्स में इन शेयरों की अनुपस्थिति का मतलब यह नहीं है कि इंडेक्स ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया। सेंसेक्स ने साल 2023 में अबतक करीब 11 प्रतिशत रिटर्न दिया है। हालांकि, निफ्टी अभी भी दौड़ में थोड़ा आगे है क्योंकि यह इसने इस साल अब तक लगभग 12 प्रतिशत रिटर्न दिया है।

[ad_2]

Source link

Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *