SEBI ने इनवेस्टमेंट एडवाइस देने वाले दो शख्स को किया बैन, 82.5 लाख रुपये वापस करने का भी आदेश

hindinewsviral.com
3 Min Read

[ad_1]

मार्केट रेगुलेटर सेबी (SEBI) ने दो लोगों को सिक्योरिटी मार्केट से दो साल के लिए बैन कर दिया है। इसके साथ ही, उन्हें अन-रजिस्टर्ड इनवेस्टमेंट एडवाइस के माध्यम से निवेशकों से कलेक्ट किए गए 82.5 लाख रुपये वापस करने का आदेश दिया गया है। सेबी ने अपने ऑर्डर में दोनों को दो साल के लिए किसी भी लिस्टेड पब्लिक कंपनी में डायरेक्टर या मैनेजमेंट से जुड़े बड़े पद पर रहने से रोक दिया है। इतना ही नहीं, दोनों पर दो-दो लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

रजिस्ट्रेशन के बिना दे रहे थे निवेश से जुड़ी सलाह

सेबी ने जिन लोगों पर प्रतिबंध लगाया है उनमें डब्ल्यू गेन रिसर्च एंड डेवलपमेंट डॉट कॉम के मालिक चंद्रप्रताप सिंह नरूका और अमरजीत सिंह त्रेहन शामिल हैं। मंगलवार के अपने आदेश में सेबी ने कहा कि दोनों शख्स निवेश से जुड़ी सलाह देने में लगे हुए थे, जबकि उनका IA (इनवेस्टेमेंट एडवाइजर) रेगुलेशन के तहत सेबी में रजिस्ट्रेशन नहीं है। इसके जरिए उन्होंने निवेशकों से 82.52 लाख रुपये कलेक्ट किए हैं। सेबी ने दोनों को कलेक्ट किए गए 82.52 लाख रुपये की राशि तीन महीने के भीतर वापस करने का निर्देश दिया है।

क्या है मामला

मार्केट रेगुलेटर सेबी ने यह आदेश जनवरी 2021 के एक शिकायत के आधार पर जारी किया है। सेबी को अरविंद जोशी नाम के एक शख्स से शिकायत मिली, जिसमें आरोप लगाया गया कि वेल्थगेनरिसर्च डॉट कॉम के अमरजीत सिंह त्रेहन ने उनके साथ फ्रॉड किया है।

शिकायत के मुताबिक त्रेहन ने जोशी को 26 दिसंबर 2020 को एंटनी वेस्ट हैंडलिंग सेल लिमिटेड के आईपीओ में शेयर प्रदान करने का वादा किया था। शिकायतकर्ता से पूछा था। उसने शिकायतकर्ता से तीन लॉट के लिए 44,415 रुपये का भुगतान करने के लिए कहा। इसमें आगे कहा गया है कि शिकायतकर्ता ने भुगतान कर दिया, लेकिन लिस्टिंग की तारीख पर उसे अपने खाते में शेयर नहीं मिले। वहीं, रिफंड मांगने पर त्रेहन ने राशि वापस करने से इनकार कर दिया।

शिकायतकर्ता ने आगे आरोप लगाया कि उसने डब्ल्यू गेन रिसर्च एंड डेवलपमेंट.कॉम (WGRD) को फीस के रूप में 90,000 रुपये ट्रांसफर किए थे। लेकिन 4 लाख रुपये का नुकसान हुआ था और नुकसान की भरपाई के लिए शिकायतकर्ता ने आईपीओ में शेयर खरीदने के लिए WGRD को 44,415 रुपये का भुगतान किया था, लेकिन भुगतान के बदले आईपीओ में शेयर नहीं मिले।

[ad_2]

Source link

Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *