Salaar Review Update; Prabhas | Prithviraj Sukumaran Shruti Haasan | मूवी रिव्यू- सालार: कमजोर और कन्फ्यूजिंग स्टोरीलाइन, प्रभास के पास गिनती के डायलॉग्स; KGF वाला जादू दिखाने में प्रशांत नील नाकाम

hindinewsviral.com
5 Min Read

[ad_1]

मुंबई10 मिनट पहलेलेखक: आशीष तिवारी

  • कॉपी लिंक

प्रभास की मोस्ट अवेटेड फिल्म सालार आज रिलीज हो गई है। हम इस फिल्म का रिव्यू करेंगे। फिल्म की लेंथ 2 घंटे 52 मिनट है। दैनिक भास्कर ने फिल्म को 5 में से 3 स्टार रेटिंग दी है।

फिल्म की कहानी क्या है?
केजीएफ की तरह सालार की कहानी भी एक काल्पनिक दुनिया से शुरू होती है। अमेरिका से लौटी आध्या (श्रुति हसन) का जीवन खतरे में है। आध्या भागकर एक महिला के घर छिप जाती है। वो महिला देवा यानी प्रभास की मां होती है। देवा उसे उन गुंडों से बचाता है। धीरे-धीरे आध्या को देवा और उसकी फैमिली की सच्चाई पता चलती है।

कहानी सेकेंड हाफ में ‘खानसार’ की दुनिया में जाती है। खानसार एक ऐसी जगह जहां के लोग एक अलग दुनिया बनाकर रहते हैं। वे अपने आप को देश का हिस्सा नहीं मानते। उनकी खुद की आर्मी होती है। अंग्रेज भी उनसे सामने घुटने टेंक देते हैं। आजादी के बाद वहां पर राजा का शासन हो जाता है।

राजा के मरने के बाद सिंहासन की लड़ाई शुरू होती है। राजमन्नार (जगपति बाबू) छल कपट से राजा बन जाता है। वो इसके लिए प्रतिद्वंदियों की पूरी बस्ती को ही मरवा देता है। हालांकि उसमें से कुछ लोग बच जाते हैं। राजमन्नार का बेटा वर्धा और देवा बचपन से दोस्त रहते हैं। देवा आगे चलकर वर्धा को राजा बनाना चाहता है, इसके लिए वो दुश्मनों से लड़ता भी है। हालांकि देवा का भी खानसार की सिंहासन से एक कनेक्शन है, अब वो कनेक्शन क्या है, इसके लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।

बाहुबली स्टार प्रभास एक बार फिर अल्ट्रा एक्शन मोड में नजर आए हैं।

बाहुबली स्टार प्रभास एक बार फिर अल्ट्रा एक्शन मोड में नजर आए हैं।

स्टारकास्ट की एक्टिंग कैसी है?
बाहुबली के बाद से ही प्रभास अपना 100% नहीं दे पा रहे हैं। इस फिल्म में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिला। पूरी फिल्म में उनके गिनती के डायलॉग्स हैं। कई सीक्वेंस तो बिना एक भी शब्द कहे निकल जाते हैं। एक्शन में जरूर उन्होंने थोड़ा प्रभावित करने की कोशिश की है। उनके कुछ सीन्स ऐसे हैं, जिसमें मुंह खुला रह सकता है। हालांकि आज के हिसाब से ये भी बेस्ट नहीं कहे जा सकते।

वर्धा के रोल में पृथ्वीराज सुकुमारन की अदाकारी संतोषजनक है। ट्रेलर के ठीक विपरीत फिल्म में उनके किरदार को बहुत कमजोर रखा गया है। हालांकि उन्होंने अपने रोल के साथ जस्टिस किया है।श्रुति हसन को स्क्रीन टाइम बहुत कम मिला है।

यह एक पैन इंडिया रिलीज फिल्म है। फिल्म को पांच भाषाओं में रिलीज किया गया है।

यह एक पैन इंडिया रिलीज फिल्म है। फिल्म को पांच भाषाओं में रिलीज किया गया है।

डायरेक्शन कैसा है?
दर्शकों को उम्मीद थी कि डायरेक्टर प्रशांत नील KGF वाला जादू फिर से दिखा पाएंगे। हालांकि यहां पर वो पूरी तरह फेल होते दिखे हैं। वे प्रभास सहित किसी भी एक्टर से उनका बेस्ट नहीं निकलवा पाए हैं। पहले हाफ में उन्होंने स्टोरी को बिल्कुल कन्फ्यूजिंग बनाकर रखा है। सेकेंड हाफ में उन्होंने जरूर गाड़ी पटरी पर लाने की कोशिश की है।

प्रशांत नील की फिल्मों में अक्सर सेपिया मोड देखने को मिलता है। इनकी फिल्में स्क्रीन पर थोड़ी डार्क लगती हैं। सालार में भी यही देखने को मिला है। डायरेक्टर ने VFX का अच्छा यूज किया है।

प्रशांत नील (बीच में) ने ही KGF सीरीज की दोनों फिल्मों का डायरेक्शन किया है।

प्रशांत नील (बीच में) ने ही KGF सीरीज की दोनों फिल्मों का डायरेक्शन किया है।

म्यूजिक कैसा है?
फिल्म का BGM बहुत साधारण है। आज के समय में जहां बैकग्राउंड म्यूजिक पर काफी ज्यादा काम किया जा रहा है, इस फिल्म में वो बिल्कुल नदारद दिखा। KGF के बैकग्राउंड म्यूजिक की आज भी चर्चा होती है। सालार का BGM कहीं से भी इसके आस-पास नहीं है।

फाइनल वर्डिक्ट, देखें या नहीं
प्रभास के फैंस इस फिल्म को एक बार देख सकते हैं। जो दर्शक यह उम्मीद लगाए होंगे कि फिल्म में कुछ नए एक्शन सीक्वेंस और थ्रिलर देखने को मिलेगा। उन्हें जरूर निराशा होगी।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *