Nagarjuna’s son Naga Chaitanya will debut in web series | नागार्जुन के बेटे नागा चैतन्य के फेवरेट हीरो आमिर हैं: ‘लाल सिंह चड्ढा’ से किया था बॉलीवुड डेब्यू, बोले- साउथ के लोग भी अब ओटीटी के लिए तैयार हैं

hindinewsviral.com
7 Min Read

[ad_1]

2 घंटे पहलेलेखक: अमित कर्ण

  • कॉपी लिंक

बॉलीवुड की तरह साउथ की फिल्म इंडस्ट्री से भी स्टारकिड्स के अपनी विरासत को आगे बढ़ाने की परंपरा रही है। साउथ के मशहूर स्टार नागार्जुन के बेटे नागा चैतन्य भी एक अर्से से फिल्मों में काम कर रहे हैं। आमिर खान के साथ नागा ने बॉलीवुड डेब्यू भी किया। अब उन्होंने वेब सीरीज डेब्यू किया है। उनकी ‘धूथा’ अमेजॉन प्राइम पर आई है। यह थ्रिलर बेस्ड सीरीज है। नागा चैतन्य इसमें पत्रकार के रोल में हैं। नागा से साउथ में मौजूदा ट्रेंड और उनकी जर्नी पर बातें हुईं।

कब महसूस हुआ कि एक्टिंग में ही आना है और क्यों?

मैं जब12वीं पास कर चुका था, तब तक मुझे एक्टिंग का कीड़ा काट चुका था। मैं फिर हैदराबाद मूव कर गया, क्योंकि तेलुगू इंडस्ट्री वहीं से ऑपरेट होती है। यहां काफी समय दिया। कई ऐड्स किए। फिर एक्टिंग स्कूल भी गया। फिर जब 17 से 18 साल का हो गया। फिर पूरी तरह इसी का हो गया।

धूथा आपका पहला ओटीटी प्रोजेक्ट है, कैसा एक्सपीरियंस रहा?

दर्शकों का फीडबैक बड़ा कमाल का रहा। दो हफ्ते लगातार यह ट्रेडिंग में रहा। ओटीटी ने मुझे मौका दिया कि मैं खुद को एक एक्टर के तौर पर एक्सप्लोर कर सकूं। अलग जॉनर भी एक्सप्लोर कर सकूं, जिन्हें मैंने अब तक मूवीज में एक्सपेरिमेंट नहीं किया था। इस सीरीज के चलते मैं अपने कंफर्ट जोन से बाहर भी निकल सका। जब मैंने इसे साइन किया था तो कई तरह की चुनौतियां थीं। कई सारे सवाल मेरे सामने थे। पर उसे कंप्लीट किया और अब मुझे मेरी सारी जिज्ञासाओं के जवाब मिल गए।

आपके परिवार से ऑलरेडी बड़े नाम इंडस्ट्री में हैं। कभी ऐडेड प्रेशर रहा कि हर बार बेहतर ही करना है?

जी हां। वह प्रेशर तो रहा ही है। मैं अपने परिवार से थर्ड जेनरेशन से हूं, जो इसी इंडस्ट्री में है। ग्रैंडडैड और डैड बहुत सफल भी रहें हैं। मैं गिफ्टेड तो बोलूंगा ही खुद को, जो इस परिवार में मैंने जन्म लिया। इस इंडस्ट्री में आने का सौभाग्य मिला। ग्रैंडडैड और डैड ने जो फैन बेस तैयार किया था, वह मेरे लिए भी मौजूद था। उस फैन बेस ने मुझे पूरा सपोर्ट किया कि मैं अपने परिवार की विरासत को आगे ले जाता रहूं।

किस हिंदी सितारे के आप फैन हैं? मौका मिले तो किस हिंदी फिल्म की रीमेक आप करना चाहेंगे ?

रीमेक का तो मैं श्योर नहीं हूं कि करना ही चाहूं। वह इसलिए कि ओरिजिनल फिल्मों को जिन किसी कलाकारों ने किया होगा, वह सब कमाल ही हैं। उन सितारों ने वहां उम्दा काम किया ही होगा। फिल्मों में यूनीकनेस लाई होगी, जिनके चलते दर्शकों ने उन प्रोजेक्ट्स को पसंद किया। हम ऐसे दौर में भी रह रहे, जहां हर किसी के पास मीडियम हैं, जिनके चलते वो ओरिजिनल फिल्में देखने की सिचुएशन में होते हैं। मैं उन ओरिजनल फिल्म की सक्सेस में क्या ही वैल्यू ऐड कर सकूंगा। तो इस वक्त तो कम से कम मैं रीमेक में यकीन नहीं रख रहा। बाकी मैं आमिर खान सर का फैन तो हूं हीं। सौभाग्य से उनके साथ काम करने मौका भी मिला मुझे।

तेलुगु में सिक्स पैक एब्स वाले हीरो कम हैं। हिंदी में वह मैंडेटरी जैसा है। पर आप उस बिल्ट अप के साथ हैं। क्या कहना चाहेंगे?

मेरे ख्याल से फिट होना जरूरी है। उस लिहाज से हमारे सारे हीरोज नॉर्थ या साउथ में सुपरफिट हैं। बाकी जो ये सिक्स पैक एब्स कल्चर है, वह कैरेक्टर की डिमांड पर डिपेंड करता है। तो इसकी जरूरत किरदार केंद्रित मामला हो तब होती है।

धूथा का वन लाइनर विश्वसनीय लगा था?

पहले एपिसोड का जो नैरेशन मुझे डायरेक्टर विक्रम ने दिया, उसने तो सच में मेरा दिमाग ही उड़ा दिया। हर एपिसोड के अंत में जो क्लिफहैंगर होता था कि मेरी ही उत्सुकता लगातार बनी रहती थी कि आगे क्या हेाने वाला है? तो मैं तो पहले एपिसोड की नैरेशन ही मन बना चुका था कि मुझे यह करना है।

पत्रकार के किरदार में कैसे गए ?

मैंने इससे पहले ऐसा किरदार नहीं प्ले किया था। काफी लेयर भी थे इस किरदार में। जरा ग्रे शेड भी इसका। तो मैंने काफी रिसर्च की। पता किया पत्रकारों के अप्रोच को। साथ ही डायरेक्टर विक्रम के साथ काफी सीटिंग की। उनके साथ ही मुझे ज्यादा क्लैरिटी आई। लॉकडाउन के दौरान वह सब हुआ। तो हमारे पास तैयारी को काफी वक्त था।

आपके चाहने वाले जानना चाहेंगे, कभी मौका मिले तो किसकी बायोपिक करना चाहेंगे ?

कोई स्पोर्ट्सबायोपिक मैं करना चाहूंगा कभी। खिलाड़ी मुझे काफी अट्रैक्ट और इंस्पायर करते हैं। तो बेशक कोई मेरे पास किसी खिलाड़ी की बायोपिक कहानी लाएं। मैं कर लूंगा।

नॉर्थ में तो काफी वेब सीरीज बन रहें हैं। काफी देखे भी जा रहें। साथ में शायद लोगों को दिलचस्पी फिल्मों की ज्यादा है?

यहां भी लोग काफी ओपन हैं। साउथ में लोग ओटीटी को कंज्यूम करना चाहते हैं। हमारे यहां भी लोग अपने कंफर्ट और स्पेस में ओटीटी पर कंटेंट देखने को रेडी हैं। अब हमारी जिम्मेदारी है कि हम उन्हें एक्साइट कर सकें। लोग तो वेब सीरीज के कई सीजन तक देखने को मेंटली रेडी हैं। वो किसी पर्टिकुलर जॉनर की भी डिमांड नहीं कर रहे कि उन्हें फलां जॉनर की ही वेब सीरीज चाहिए। ऑडिएंस आपसे बस इनोवेटिव होने की डिमांड कर रहे। जॉनर चाहे किसी में भी हो।

[ad_2]

Source link

Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *