Mithun Chakraborty starrer Kabuliwala was shot at a height of 12 thousand feet, Speaks about son Namashi Chakraborty | अफगानी दोस्त से इंस्पायर होकर मिथुन ने निभाया यह रोल, ऑल इंडिया रिलीज होगी फिल्म

hindinewsviral.com
7 Min Read

[ad_1]

21 मिनट पहलेलेखक: इंद्रेश गुप्ता

  • कॉपी लिंक

वेटरन एक्टर मिथुन चक्रवर्ती की फिल्म ‘काबुलीवाला’ 22 दिसंबर को रिलीज होने जा रही है। यह रवीन्द्रनाथ टैगोर की टाइमलैस स्टोरी की एडॉप्टेशन है जिसे नेशनल-इंटरनेशनल अवॉर्ड विनिंग फिल्ममेकर सुमन घोष ने डायरेक्ट किया है।

हाल में मिथुन ने इस फिल्म को लेकर दैनिक भास्कर से खास बातचीत की। पेश हैं उनसे हुई बातचीत के मुख्य अंश…

फिल्म 'काबुलीवाला' का पोस्टर

फिल्म ‘काबुलीवाला’ का पोस्टर

फिल्म ‘काबुलीवाला’ से आपका जुड़ना कैसे हुआ?
पहले जब सुमन घोष ने मुझे इस फिल्म के लिए अप्रोच किया गया था तो मैंने इसे करने से इंकार कर दिया था। मैं इससे पहले ‘नोबेल चोर’ में उनके साथ काम कर चुका था। मैं जानता था कि वो बहुत ही स्ट्रेट फॉरवर्ड डायरेक्टर हैं। उन्हें फिल्मों की अच्छी समझ है। उन्हें जो अच्छा लगता है वो सुनते हैं, जो नहीं लगता वह तुरंत बता देते हैं कि दादा ये अच्छा नहीं लग रहा।

खैर जब मैंने उन्हें यह फिल्म करने के लिए इंकार किया तो उन्होंने मुझसे पूछा कि दादा आपके ना कहने की क्या वजह है ? मैंने कहा- देखो जैसा तुम्हे लग रहा है कि यह सिंपल किरदार है यह उतना सिंपल है नहीं। ऊपर से इस पर पहले से ही बलराज साहनी और छबा विश्वास जैसे महारथी एक्टर्स काम कर चुके हैं। हालांकि, बाद में डायरेक्टर की कुछ बातें सुनने के बाद मैं इस फिल्म को करने के लिए तैयार हो गया।

मिथुन बीते कुछ वक्त से बंगाली फिल्मों में ज्यादा नजर आ रहे हैं। हिंदी में बीते 5 सालों में उन्होंने 'द ताशकंद फाइल्स' और 'द कश्मीर फाइल्स' जैसी फिल्में ही की हैं।

मिथुन बीते कुछ वक्त से बंगाली फिल्मों में ज्यादा नजर आ रहे हैं। हिंदी में बीते 5 सालों में उन्होंने ‘द ताशकंद फाइल्स’ और ‘द कश्मीर फाइल्स’ जैसी फिल्में ही की हैं।

रहमत के किरदार में आपने अपनी तरफ से क्या नया ऐड किया है?
इस किरदार के बोलने का जो लहजा है वह मैंने मेरे एक अफगानी दोस्त से मैच किया। वह एक कुक था, उससे मैंने खाना बनाना भी सीखा था। बहुत प्यार करता था वह मुझे। वह तो मेरा नाम भी ठीक से नहीं बोल पाता था, मिथुन की जगह मठन कहता था।

वह कुछ भी बनाता था तो देखता था कि वह सिर्फ मैं ही खाऊं। वो कहता था मैंने अल्लाह से बोल दिया है कि मेरा यार एक दिन नंबर 1 बनेगा।

एक खास बात जो मैंने इस किरदार में डाली है कि मेरे दोस्त को सांस की बीमारी थी। जब उसको अटैक आता था तो वह अपनी पूरी बात नहीं कह पाता था, आधी बात अंदर ही रह जाती थी। उससे इंस्पायर होकर मैंने रहमत के किरदार में भी यह चीज डाली है। आप कह सकते हैं कि यह मेरे अफगानी दोस्त जमालुद्दीन खान को मेरी तरफ से एक ट्रिब्यूट है।

मिथुन के साथ फिल्म में बाल कलाकार अनुमेघा कहाली का अहम रोल है।

मिथुन के साथ फिल्म में बाल कलाकार अनुमेघा कहाली का अहम रोल है।

फिल्म में आपके साथ जो छोटी बच्ची है अनुमेघा कहाली, उसके साथ कैसी बॉन्डिंग रही?
जो भी मेरे टीवी शोज देखते होंगे वो जानते हैं कि मैं बच्चों से कितना प्यार करता हूं। अनुमेघा के साथ भी ऐसा ही हो गया कि सेट पर जिस दिन पहली बार मेरी उससे मुलाकात हुई हम बेस्ट फ्रेंड्स बन गए।

सेट पर हम एक साथ बैठते और खाना-पीना करते थे। फिल्म कब पूरी हो गई हमें खुद भी नहीं पता चला। लेकिन एक बात मैं उस बच्ची के लिए कहना चाहूंगा कि अगर ऐसे ही वह आगे भी काम करती रही तो एक दिन वह जरूर सुपरस्टार बनेगी।

फिल्म का ट्रेलर एक हफ्ते पहले रिलीज हो चुका है। फिल्म क्रिसमस पर रिलीज होनी है।

फिल्म का ट्रेलर एक हफ्ते पहले रिलीज हो चुका है। फिल्म क्रिसमस पर रिलीज होनी है।

इसकी शूटिंग कहां-कहां हुई, सेट पर क्या चुनौतियां रहीं?
चुनौतियों के लिए तो पहले दिन से ही तैयार था। हर दिन डायरेक्टर सुमन मेरी वैनिटी वैन में आते थे। वे मुझे पूरा सीन समझाते थे, फिर मैं उन्हें पूरा सीन करके दिखाता था तब हम सेट पर कैमरे के सामने जाते थे। हम इसे पाकिस्तान और अफगानिस्तान बॉर्डर पर कारगिल के पास शूट कर रहे थे। तब मैं थोड़ा बहुत चिंतित था क्योंकि डॉक्टर ने मुझसे कह दिया था कि मुझे 10 हजार फीट के ऊपर नहीं जाना नहीं। यह मेरी सेहत के लिए ठीक नहीं होगा। लेकिन कब शूट करते हुए हम 11-12 हजार से भी ऊपर पहुंच गए, पता ही नहीं चला। जब पैकअप हुआ तो पता चला कि मैं 12 हजार फीट की ऊंचाई पर आखिरी शॉट देकर आ रहा हूं। किस्मत से कहीं कोई समस्या नहीं आई।

फिल्म के एक अहम सीक्ववेंस की शूटिंग 12 हजार फीट की ऊंचाई पर की गई है।

फिल्म के एक अहम सीक्ववेंस की शूटिंग 12 हजार फीट की ऊंचाई पर की गई है।

क्या यह फिल्म लिमिटेड रिलीज होगी? क्या इसे अवॉर्ड्स में भेजने की तैयारी है?
यह ऑल इंडिया रिलीज हो रही है। मूल फिल्म हिंदी में रहेगी और बंगाली में भी इसके सब-टाइटल चलेंगे। बाकी रही बात इसे अवॉर्ड्स के लिए भेजे जाने की तो इसकी जानकारी डायरेक्टर को होगी। मैं अवॉर्ड्स के पीछे नहीं जाता। उसके लिए बहुत सारी फील्डिंग करनी पड़ती है और मुझे सिर्फ बैटिंग करनी आती है।

बेटे नमाशी और उनकी डेब्यू फिल्म बैड बॉय की को-एक्ट्रेस अमरीन कुरैशी के साथ मिथुन।

बेटे नमाशी और उनकी डेब्यू फिल्म बैड बॉय की को-एक्ट्रेस अमरीन कुरैशी के साथ मिथुन।

बेटे नमाशी की लॉन्चिंग और पहली फिल्म को लेकर क्या कहेंगे?
मेरा मानना है कि नमाशी की बिल्कुल करेक्ट लॉन्चिंग हुई है और जबरदस्त तरीके से हुई है। उसकी फिल्म का प्रोड्यूसर बहुत तगड़ा था। फिल्म भी अच्छी रही। अगर ये फिल्म हमारे टाइम में आई होती तो गोल्डन जुबली हिट होती।

आज ओटीटी के जमाने में इससे बेहतर कुछ एक्सपेक्ट नहीं किया जा सकता है। मेरे ख्याल से नमाशी ने पहली फिल्म के लिहाज से अच्छा काम किया है। वह डेफिनेटली एक स्टार है, अब वह कितना बड़ा स्टार है वह वक्त बताएगा।

[ad_2]

Source link

Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *