‘गोरिल्ला से किंग कोंग’: इस रणनीति से बनाया पोर्टफोलियो, तो शेयर बाजार में घाटा होने का चॉन्स रहेगा कम

hindinewsviral.com
3 Min Read

[ad_1]

Gorilla to King Kong Strategy: शेयर बाजार में हर व्यक्ति की अपनी एक अलग रणनीति होती है। कोटक म्यूचुअल फंड के पंकज टिबरेवाल (Pankaj Tibrewal) के पास भी पोर्टफोलियो बनाने को लेकर अपनी एक अलग रणनीति है। इस रणनीति को उन्होंने ‘गोरिल्ला खरीदे, किंग कोंग बनाकर बेचें’ नाम दिया है। टिबरेवाल का कहना है कि लोगों को ऐसा पोर्टफोलियो बनाने पर ध्यान देना चाहिए, जो बाजार में बड़ी गिरावट आने पर उसका सामना कर सके और निवेशकों को पूंजी की स्थायी नुकसान से बचाए। टिबरेवाल पिछले करीब 14 सालों से कोटक म्यूचुअल फंड के साथ जुड़े हैं।

टिबरेवाल ने हाल ही में वह अभी भी शेयर बाजार से हमेशा कुछ नया सीखते रहते हैं और खुद को सही पोर्टफोलियो बनाने की कला में पारंगत होने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि टिबरेवाल ने कहा कि पोर्टफोलियो बनाते समय उनका पसंदीदा तरीका डायवर्सिफिकेशन को अपनाने का रहा है, जिसे उन्होंने ‘गोरिल्ला से किंग कोंग’ तक की रणनीति का नाम दिया है।

टिबरेवाल ने अक्सर पाया कि जब किसी सेक्टर के शेयरों में तेजी का थीम रहता है, जैसे आईटी शेयरों में आए बूम के दौरान, जब निवेशक अधिक पीई रेशियो वाले और कम क्वालिटी वाले स्टॉक्स की तरफ आकर्षित हो जाते हैं। निवेशक उस समय बाजार में चल रही रैली का हिस्सा बनना चाहते हैं, लेकिन वह इससे जुड़े जोखिमों को नजरअंदाज करते हैं। उन्होंने कहा, “लेकिन जब रैली थमती है, तो उसके बाद का घटनाक्रम काफी दर्द दे सकता है।”

यह भी पढ़ें- चुनाव नतीजों के बाद सोमवार को गिरेगा शेयर बाजार या आएगी तेजी? जानें 2003 से अबतक के आंकड़े

टिबरेवाल का कहना है कि ऐसी स्थिति से बचने के लिए उनकी रणनीति रही है कि विभिन्न इंडस्ट्रीज में अच्छा प्रदर्शन करने वाले 50 से 60 स्टॉक्स का चयन किया जाए। ये “गोरिल्ला” स्टॉक्स होंगे। इन स्टॉक्स को पोर्टफोलियो में जोड़ें और यह उम्मीद है कि इसमें कुछ स्टॉक्स आगे जाकर “किंग कोंग” बन जाएंगे, यानी आपको मेगा रिटर्न देंगे।

पब्लिक फंड का मैनेजमेंट और पोर्टफोलियो के बारे में उन्होंने कहा कि ऐसे पोर्टफोलियो को बनाते समय लोगों को किसी एक शेयर या सेगमेंट में अधिक आवंटन से बचना चाहिए और बेंचमार्क के मुकाबले स्टॉक के वेटेज पर ध्यान देना चाहिए। उनका यह भी सुझाव है कि किसी को भी वैल्यूएशन पर फोकस करना चाहिए और बाजार की रैली का पीछा करने या किसी थीम में हिस्सा लेने की कोशिशों से बचना चाहिए।

[ad_2]

Source link

Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *