Dalal Street Week Ahead: इस हफ्ते किधर जाएगा बाजार; चुनावी नतीजे, RBI पॉलिसी, सर्विसेज PMI समेत ये अहम फैक्टर्स करेंगे तय

hindinewsviral.com
7 Min Read

[ad_1]

Dalal Street Week Ahead: शेयर बाजार में गुजरे सप्ताह में भी तेजी रही। यह लगातार 5वां सप्ताह है, जब शेयर बाजार में बढ़त देखी गई है। 1 दिसंबर को समाप्त सप्ताह में निफ्टी 50473 अंक या 2.4 प्रतिशत बढ़कर 20,268 पर और बीएसई सेंसेक्स 1,511 अंक या 2.3 प्रतिशत उछलकर 67,481 पर पहुंच गया। बाजार में तेजी काफी हद तक इस धारणा के चलते थी कि अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने दर वृद्धि का साइकिल पूरा कर लिया है और अब इसमें कमी आ सकती है। इस धारणा की वजह से अमेरिकी बॉन्ड यील्ड भी नीचे आई, जिससे भारतीय इक्विटी मार्केट में भी निवेशकों की दिलचस्पी बढ़ी।

एक्सपर्ट्स का कहना है कि मैन्युफैक्चरिंग गतिविधि में लगातार विस्तार, तेल की कम कीमतों, शुद्ध खरीदारों के रूप में विदेशी निवेशकों की वापसी और उम्मीद से बेहतर सितंबर तिमाही जीडीपी ग्रोथ ने भारतीय बाजारों में तेजी को बनाए रखने में मदद की। आने वाले सप्ताह में देश में 5 राज्यों में हुए चुनाव के नतीजे और RBI की मौद्रिक नीति समिति की बैठक के 8 दिसंबर को सामने आने वाले नतीजों से बाजार प्रभावित होगा। इसके अलावा और कौन से फैक्टर्स शेयर बाजारों की चाल तय करने में अहम भूमिका निभाएंगे, आइए जानते हैं…

पॉलिसी रेट्स को लेकर RBI का फैसला

सभी की निगाहें 8 दिसंबर को इस कैलेंडर वर्ष की आखिरी मौद्रिक नीति समिति (MPC) की बैठक के नतीजों पर रहेंगी। महंगाई में लगातार कमी को देखते हुए प्रमुख पॉलिसी रेट्स के जस का तस रहने का अनुमान है। लेकिन आने वाले वर्ष में दर में कटौती को लेकर किसी भी तरह के संकेत पर नजर रहेगी।

डॉमेस्टिक इकोनॉमिक डेटा

मैन्युफैक्चरिंग गतिविधि में लगातार विस्तार के बाद, दलाल स्ट्रीट अब अगले सप्ताह आने वाले सर्विस पीएमआई डेटा पर ध्यान देगा। नवंबर के लिए एसएंडपी ग्लोबल सर्विसेज पीएमआई और कंपोजिट पीएमआई 5 दिसंबर को जारी किए जाएंगे। अक्टूबर में सर्विसेज पीएमआई 58.4 पर था। 1 दिसंबर को समाप्त सप्ताह के लिए विदेशी मुद्रा भंडार के आंकड़े भी अगले सप्ताह 8 दिसंबर को सामने आएंगे।

Image1302122023

अमेरिकी बेरोजगारी दर

दुनिया भर के निवेशक नवंबर के लिए अमेरिकी बेरोजगारी दर और नॉन-फार्म पेरोल डेटा, अक्टूबर के लिए जॉब ओपनिंग और नौकरी छोड़ने के डेटा, और अगले सप्ताह जारी होने वाले बेरोजगारी दावों (Jobless Claims) पर नजर रखेंगे। अधिकांश अर्थशास्त्रियों का मानना है कि नवंबर में बेरोजगारी दर 3.9 प्रतिशत रहने की उम्मीद है। अक्टूबर में, अमेरिका में नॉन-फार्म पेरोल में 1.5 लाख की वृद्धि हुई।

टॉप-10 कंपनियों में से 9 का m-cap ₹1.30 लाख करोड़ बढ़ा, किस एक कंपनी को हुआ नुकसान

वैश्विक आर्थिक डेटा

अक्टूबर के लिए अमेरिकी फैक्ट्री ऑर्डर और होलसेल इनवेंटरी, कच्चे तेल की साप्ताहिक इनवेंटरी और नवंबर के लिए वाहन बिक्री के आंकड़े भी आने वाले सप्ताह में घोषित किए जाएंगे। इसके अलावा, अमेरिका, चीन, जापान और यूरोप जैसी प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के सर्विसेज और कंपोजिट पीएमआई आंकड़ों पर भी नजर रहेगी। जापान के Q3-CY23 जीडीपी आंकड़े, Q3-CY23 के लिए यूरोप की आर्थिक वृद्धि के तीसरे अनुमान और नवंबर के लिए चीन के महंगाई आंकड़ों पर भी ध्यान दिया जाएगा।

पिछले तीन महीने लगातार बिकवाली के बाद नवंबर में एफआईआई का आउटफ्लो रुक गया और उन्होंने भारतीय इक्विटीज में पैसे लगाए। पिछले पांच दिनों में अमेरिकी 10-वर्षीय ट्रेजरी यील्ड और अमेरिकी डॉलर सूचकांक में गिरावट के चलते एफआईआई की ओर से इनफ्लो देखा गया। बीते सप्ताह में एफआईआई ने कैश सेगमेंट में 10,593 करोड़ रुपये के शेयर शुद्ध रूप से खरीदे और नवंबर में उनकी शुद्ध खरीदारी 5,795 करोड़ रुपये रही। वहीं घरेलू संस्थागत निवेशकों ने सप्ताह के दौरान 4,354 करोड़ रुपये और पूरे नवंबर माह में 12,762 करोड़ रुपये की शुद्ध खरीदारी की। आगे एफआईआई का रुख, घरेलू बाजारों की चाल पर निर्भर करेगा। अमेरिकी 10-वर्षीय ट्रेजरी यील्ड शुक्रवार को 4.2 प्रतिशत पर आ गई, जो पिछले सप्ताह में 4.47 प्रतिशत थी।

तेल की कीमतें

मार्केट पार्टिसिपेंट्स की नजर तेल की कीमतों पर भी रहेगी। तेल की कीमतों में लगातार गिरावट भारतीय इक्विटी बाजारों के लिए एक और सकारात्मक बात थी। पिछले सप्ताह के दौरान अंतरराष्ट्रीय बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड वायदा 3.8 प्रतिशत गिरकर 200-दिवसीय ईएमए (एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज- 79.31 डॉलर) से नीचे 78.88 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ।

नए सप्ताह में प्राइमरी मार्केट में गतिविधि थोड़ी मंद रहेगी। इसकी वजह है कि मेनबोर्ड सेगमेंट का कोई नया आईपीओ 4 दिसंबर से शुरू हो रहे सप्ताह में नहीं खुलने जा रहा है। हालांकि SME सेगमेंट के आईपीओ रहेंगे। इस सेगमेंट में दो कंपनियां अपना पब्लिक इश्यू लेकर आएंगी। पहला आईपीओ है Sheetal Universal का। 23.8 करोड़ रुपये का यह इश्यू 4 दिसंबर को खुलेगा और 6 दिसंबर तक बोली लगाई जा सकेगी। प्राइस बैंड 70 रुपये प्रति शेयर है। वहीं Accent Microcell का 78.4 करोड़ रुपये का आईपीओ 8 दिसंबर को खुलेगा, जिसके लिए प्राइस बैंड 133-140 रुपये प्रति शेयर है। पहले से चल रहे आईपीओ की बात करें तो Net Avenue Technologies का इश्यू 4 दिसंबर को क्लोज होगा। वहीं Graphisads और Marinetrans India का इश्यू 5 दिसंबर को बंद होगा। Swashthik Plascon 7 दिसंबर को BSE SME पर शेयरों को लिस्ट करेगी।

भारतीय बाजारों में फिर जगी FPI की दिलचस्पी, नवंबर में शेयरों में लगाए ₹9000 करोड़

कॉरपोरेट एक्शंस

Image1202122023

Disclaimer: मनीकंट्रोल.कॉम पर दिए गए सलाह या विचार एक्सपर्ट/ब्रोकरेज फर्म के अपने निजी विचार होते हैं। वेबसाइट या मैनेजमेंट इसके लिए उत्तरदायी नहीं है। यूजर्स को मनीकंट्रोल की सलाह है कि कोई भी निवेश निर्णय लेने से पहले हमेशा सर्टिफाइड एक्सपर्ट की सलाह लें।

[ad_2]

Source link

Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *