Censor Board again accused of rejecting the film without notice, Mukesh modi political war | सेंसर बोर्ड पर फिर आरोप, बिना नोटिस फिल्म रिजेक्ट किया: गु्स्से में प्रोड्यूसर मुकेश मोदी; बोले- CBFC को बंद कर देना चाहिए

hindinewsviral.com
4 Min Read

[ad_1]

20 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सेंसर बोर्ड के साथ पिछले कुछ महीनों में काफी विवाद देखने को मिल रहा है। अब फिल्म मेकर मुकेश मोदी ने बोर्ड पर आरोप लगाए हैं। मुकेश ने कहा कि सेंसर सर्टिफिकेट न मिलने की वजह से उनकी फिल्म पॉलिटिकल वॉर रिलीज के लिए तरस रही है।

मुकेश ने कहा- इस फिल्म को हमने सेंसर के लिए 22 अगस्त 2023 को सबमिट किया था, उस समय इसका टाइटल था- 2024 इलेक्शन वॉर। लेकिन इस टाइटल को उकसाने वाला कहा गया, जबकि इम्पा ने हमें यह टाइटल रजिस्टर्ड करके दिया था। उसके बाद हमने फिल्म का नाम पॉलिटिकल वॉर रखा।

सेंसर बोर्ड ने तीन महीने बाद फिल्म देखी, फिर रिजेक्ट कर दिया
मुकेश मोदी ने आगे कहा- जब फिल्म का प्रिव्यू रखा गया तो उसे बिना किसी शो कॉज नोटिस के रिवाइज्ड कमेटी में भेज दिया गया। तीन महीने बाद रिवाइज्ड कमेटी ने फिल्म देखी और 22 दिसम्बर को कमेटी ने इसे रिजेक्ट कर दिया।

बताया गया कि फिल्म में दिखाए कलाकारों का चेहरा भारतीय राजनेताओं से मिलता जुलता है। CBGC सलार और एनिमल जैसी हिंसा से भरपूर फिल्म को सर्टिफिकेट दे रही है। जबकि एक सही मैसेज देने वाली फिल्म को रिजेक्ट कर दे रही।

मुकेश मोदी अमेरिकी में रहते हैं।

मुकेश मोदी अमेरिकी में रहते हैं।

सेंसर बोर्ड के अधिकारियों के पास छोटे फिल्म मेकर्स के लिए समय नहीं
मुकेश मोदी ने आगे कहा- सेंसर बोर्ड के अधिकारियों के पास हम जैसे निर्माताओं के लिए समय नहीं है। वे ईमेल, फोन या मैसेज का जवाब नहीं देते हैं। यहां के सेंसर बोर्ड का सिस्टम ठीक नहीं है, वे निर्माताओं का काफी समय बर्बाद करते हैं।

पीएम मोदी से अपील है कि सेंसर बोर्ड में अच्छे लोगों को पद दें। मेरा सेंसर के चक्कर मे काफी नुकसान हुआ है। मैं तीन महीने से भारत में हूं। सेंसर बोर्ड की लापरवाही वजह से मेरी फिल्म सिनेमाघरों में रिलीज नहीं होगी।

हमारी फिल्म युवाओं को प्रेरित करती, सरकार को ध्यान देने की जरूरत
मुकेश मोदी कहते हैं कि उनकी फिल्म युवाओं को प्रेरित करेगी। इस पर सरकार को ध्यान देना चाहिए। फिल्म में हमने यह दिखाया है कि कुछ भ्रष्ट नेताओं की मदद से बाहरी ताकत कैसे भारत को तोड़ने की कोशिश कर रही हैं।

भारत अभी विश्वगुरु बनने जा रहा है, ऐसे में भारतीय जनता को यह बताना जरूरी है कि कैसे कुछ ताकतें हमें तोड़ने का प्रयास कर रही हैं। हम यह संदेश दे रहे हैं कि लोग वोट दें और अच्छे लोगों को चुनें। यह फिल्म कई चुभते हुए सवाल भी उठाती है।

फिल्म में कई फेमस एक्टर्स ने काम किया है।

फिल्म में कई फेमस एक्टर्स ने काम किया है।

सेंसर बोर्ड को खत्म कर देना चाहिए
मुकेश मोदी ने बताया कि फिल्म की कहानी काल्पनिक है। लेकिन सेंसर वालों का कहना है कि किरदारों के लुक बड़े नेताओं से मिल रहे हैं, उनमें से एक नाम अमित शाह का बताया गया। सीमा बिश्वास पश्चिम बंगाल की नेता की भूमिका में हैं। प्रशांत नारायण एक हिन्दू लीडर के रोल में हैं। मुकेश मोदी ने तो यहां तक कह दिया कि सेंसर बोर्ड को खत्म कर देना चाहिए, हॉलीवुड में सेंसर बोर्ड है ही नहीं।

फिल्म 16 फरवरी को ओवरसीज में सिनेमाघरों में रिलीज होगी। इसके बाद ओटीटी पर रिलीज होगी। इस फिल्म को इंडि फिल्म्स वर्ल्ड के बैनर तले बनाया गया है, जिसकी शूटिंग मुंबई, बनारस, लखनऊ और साथ ही अमेरिका में भी हुई है।

[ad_2]

Source link

Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *