GIFT City में जनवरी 2024 तक एक हो जाएंगी BSE और NSE की यूनिट, कब से शुरू होगी डायरेक्ट लिस्टिंग

hindinewsviral.com
2 Min Read

[ad_1]

GIFT City में ऑपरेशनल दो इंटरनेशनल एक्सचेंज BSE का India INX और NSE का इंटरनेशनल एक्सचेंज जनवरी 2024 के आखिर तक एक हो जाएंगे। यह जानकारी IFSCA के चेयरपर्सन के राजारमन ने दी है। उन्होंने IVCA Private Credit Summit 2023 के मौके पर कहा कि प्रोसेस एडवांस स्टेज में है और विलय एक माह में पूरा हो जाना चाहिए। BSE India INX और NSE इंटरनेशनल एक्सचेंज के विलय से गिफ्ट सिटी एक्सचेंजों में और ज्यादा वॉल्यूम आने की उम्मीद है। आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, अंतरराष्ट्रीय एक्सचेंजों पर औसत दैनिक कारोबार वर्तमान में 20 अरब डॉलर है, जो मुख्य रूप से GIFT निफ्टी कॉन्ट्रैक्ट से संचालित है।

गिफ्ट सिटी में ट्रेडिंग सरल है और सभी ट्रेड डॉलर-मूल्य वाले हैं। इसके चलते विदेशी निवेशकों को अपनी करेंसी को कनवर्ट कराने और इसकी हेजिंग के लिए अतिरिक्त लागत नहीं उठानी पड़ेगी। राजारमन ने आगे कहा कि GIFT सिटी में भारतीय कंपनियों की सीधी लिस्टिंग का नोटिफिकेशन भी अप्रैल 2024 तक जारी हो जाएगा।

30 अक्टूबर को आया था एक नोटिफिकेशन

30 अक्टूबर को कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय (एमसीए) ने एक नोटिफिकेशन जारी किया था, जिसमें कुछ कैटेगरी की सार्वजनिक कंपनियों को सीधे विदेशी स्टॉक एक्सचेंजों में सूचीबद्ध होने की अनुमति दी गई थी। राजारमन ने कहा कि 7 क्षेत्राधिकार हैं, जहां डायरेक्ट लिस्टिंग की इजाजत दी जाएगी। इन 7 में से गिफ्ट सिटी पहला होगा।

Paytm: छोटे पोस्टपेड लोन पर एक फैसले ने दिया बड़ा झटका, शेयर 20% टूटा, हिट किया लोअर प्राइस बैंड

डायरेक्ट लिस्टिंग से फायदे

जुलाई में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पहली बार डायरेक्ट लिस्टिंग के प्रस्ताव की घोषणा की थी और कहा था कि यह एक बड़ा कदम है। इससे वैश्विक पूंजी तक पहुंच और बेहतर वैल्यूएशन की सुविधा मिलेगी। वर्तमान में भारतीय कंपनियां GDR (ग्लोबल डिपॉजिटरी रिसीट) मार्ग के माध्यम से ​विदेशी एक्सचेंजों पर सूचीबद्ध हो सकती हैं। डायरेक्ट लिस्टिंग से GDR की जरूरत खत्म होने की उम्मीद है।

[ad_2]

Source link

Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *