Alizeh does not consider herself a typical star kid, alijeh agnihotri, salman khan, farre, interview, spoke about film industry, alia bhatt | अलीजेह खुद को टिपिकल स्टार किड नहीं मानती हैं: कहा- लगता नहीं कि इंडस्ट्री मुझमें बड़े स्टार्स के बच्चों की तरह दिलचस्पी लेती है

hindinewsviral.com
8 Min Read

[ad_1]

  • Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • Alizeh Does Not Consider Herself A Typical Star Kid, Alijeh Agnihotri, Salman Khan, Farre, Interview, Spoke About Film Industry, Alia Bhatt

44 मिनट पहलेलेखक: अमित कर्ण

  • कॉपी लिंक

एक्टर सलमान खान के परिवार से उनकी भांजी अलीजेह अग्निहोत्री ने हाल ही में फिल्म ‘फर्रे’ से अपना डेब्यू किया था। इस फिल्म को उनके पिता और निर्माता अतुल अग्निहोत्री ने प्रोड्यूस किया। ‘जामतारा’ फेम सौमेंद्र पाधी ‘फर्रे’ के डायरेक्टर थे। अब ट्रेड के हवाले से खबर आ रही है कि अतुल अग्निहोत्री अपनी बिटिया को लेकर एक और फिल्म प्लान कर रहे हैं। ट्रेड पंडितों के मुताबिक अतुल अग्निहोत्री ने दरअसल अपने बैनर से दो फिल्में अपनी बिटिया को लेकर प्लान की थीं। एक सौमेंद्र पाधी की ‘फर्रे’ थी और दूसरी वो बनाने वाले हैं। संयोग से ‘फर्रे’ पहले बन गई। दूसरी फिल्म की डायरेक्टर मेघना गुलजार हो सकती हैं।

सलमान खान की भांजी अलीजेह अग्निहोत्री ने हाल ही में फिल्म 'फर्रे' से अपना डेब्यू किया था।

सलमान खान की भांजी अलीजेह अग्निहोत्री ने हाल ही में फिल्म ‘फर्रे’ से अपना डेब्यू किया था।

फिल्म इंडिया की एक मशहूर ऐथलीट की बायोपिक होगी। हालांकि इस वक्त उस प्रोजेक्ट के बारे में कुछ बताया नहीं जा रहा है। बायोपिक किस ऐथलीट पर आधारित होगी? फिल्म में बाकी स्टार कास्ट कौन होंगे? इन सब विषयों पर अनाउंसमेंट जल्द ही होगी। फिलहाल फर्रे पर फ्रेंचाइजी बनाने की निर्माताओं की कोई प्लानिंग नहीं है। कहानी पहले ही पार्ट में कंप्लीट कर दी गई थी। जो ऐथलीट की बायोपिक होगी, उसे भी ‘फर्रे’ की तरह सलमान खान फिल्म्स को-प्रोड्यूस करेगी।

‘फर्रे’ को विजुअली बेहतर बनाने में अतुल अग्निहोत्री ने कोई कसर नहीं छोड़ी थी
ट्रेड सूत्र और भी दिलचस्प जानकारी देते हैं। उन सूत्रों के मुताबिक अलीजेह की पहली फिल्म में भले नए कलाकार थे, पर क्रू मेंबर्स अनुभवी थे। मिसाल के तौर पर इसकी सिनेमैटोग्राफी जापानी मूल की मशहूर सिनेमैटोग्राफर केइको नाकाहारा से करवाई गई थी। केइको ने अजय देवगन की हिस्टॉरिकल वॉर फिल्म ‘तान्हाजी’ शूट की थी। ‘फर्रे’ को विजुअली बेहतर बनाने में अतुल अग्निहोत्री की ओर से कोई कसर नहीं छोड़ी गई। इसकी शूटिंग ऑस्ट्रेलिया में की गई। एमके रैना के साथ कलाकारों का वर्कशॉप भी महीनों तक करवाया गया। फिल्म बनने में 15 करोड़ से लेकर 20 करोड़ तक खर्च हुए।

‘फर्रे’ के रिस्पॉन्स से कितनी खुश हैं ?
जवाब- मुझे इतने पाजिटिव रिस्पॉन्स की उम्मीद नहीं थी। हमें इस फिल्म पर बहुत गर्व है और हम काफी खुश हैं।

‘फर्रे’ से पहले क्या आपने ऑडिशन दिए हैं ? यदि हां, तो वे ऑडिशन फिल्मों के लिए थे या विज्ञापनों के लिए ?
जवाब- हां बिल्कुल। मैंने शो, फिल्मों और विज्ञापनों के लिए ऑडिशन दिए हैं। ये जानने के लिए कि क्या मैं इस भूमिका के लिए सही हूं कि नहीं। मेरे ख्याल से हर अभिनेता को निर्देशक के साथ ऑडिशन या रीडिंग करनी पड़ती है। मैंने भी की।

‘फर्रे’ के बाद से आपको निर्देशकों और निर्माताओं से कितने कॉल आए हैं ? कहीं बातचीत फाइनल हुई ?
जवाब- इस फिल्म के बाद मुझे बहुत प्यार मिला है और मैं बेहद आभारी हूं।

आपको अपने नाना सलीम खान से क्या टिप्स मिले ?
जवाब- मेरे नानाजी ने मुझे काफी टिप्स दिए। भले ही मैं इस इंडस्ट्री में अभी नई हूं, मगर मुझे लगता है कि मेरे पास उस शख्स की दी हुई सलाह हैं, जिन्हें इस इंडस्ट्री का 50 सालों का अनुभव है। नतीजतन, मुझमें आज जो भी वैल्युज हैं, उसकी वजह नानाजी ही हैं।

नियति सिंह के किरदार में ढलने के लिए आपने निर्देशक के अलावा किसकी मदद ली ?
जवाब- हमारे निदेशक सौमेंद्र सर ने एमके रैना सर के साथ वर्कशॉप कंडक्ट की थी। उनसे मिली ट्रेनिंग और वर्कशॉप ने मुझे नियति सिंह के किरदार में ढलने में काफी मदद की।

आपने किस उम्र में एक्ट्रेस बनने का सोचा ?
जवाब- एक्ट्रेस बनने का डिसिजन एक स्लो डिसिजन था। हां, मैंने ये जरूर सोच लिया था कि 20 साल के आस-पास क्या करना चाहूंगी।

जब आपने पहली बार अपने माता-पिता को बताया कि आप फिल्म इंडस्ट्री में आना चाहती हैं, तो उनका रिएक्शन क्या था ?
जवाब- वे अच्छे हैं। वे हमेशा सबसे ज्यादा सपोर्टिंग माता-पिता रहे हैं। यहां तक कि एक समय में जब मैं अपने बारे में आश्वस्त नहीं थी, उस दौरान वे ही मुझे मजबूत बने रहने की सलाह दिया करते थे।

फिल्म इंडस्ट्री का एक्सपीरियंस कैसा रहा है ?
जवाब- यहां घर जैसा महसूस होता है। मुझे अपने जीवन में किसी भी चीज से ज्यादा सेट पर रहना पसंद है।

क्या फिल्म इंडस्ट्री में कॉम्पिटिशन है ?
जवाब- मैं प्रतिस्पर्धी नहीं हूं और सिर्फ अपने बारे में सोचती हूं।

आलिया भट्ट को छोड़कर कौन सी एक्ट्रेसेस आपको इंस्पायर करती हैं ?
जवाब- तब्बू एक ऐसी एक्ट्रेस हैं, जिनके करियर पर मैं नजर रख रही हूं। उन्होंने कुछ कमाल के निर्देशकों के साथ काम किया है और वह जिस भी प्रोजेक्ट का हिस्सा होती हैं, उसमें अपने जलवें बिखेरती हैं।

आप एक फिल्मी परिवार से हैं, लेकिन क्या आपको एक्टिंग की प्रेरणा फिल्म ‘हाईवे’ देखने के बाद मिली ? आपने उस फिल्म में ऐसा क्या देखा, जिससे आपने एक्टिंग में आने का सोच लिया ?
जवाब- आलिया भट्ट की परफॉर्मेंस ने मुझे काफी प्रेरित किया। इसने मुझे अपने करियर के लिए समान आकांक्षाएं रखने के लिए भी इंस्पायर किया।

सलमान खान की भांजी होने के नाते, क्या आपको फिल्म की शूटिंग के दौरान किसी दबाव का सामना करना पड़ा ?
जवाब- बिल्कुल नहीं। किसी ने भी मुझे उस दबाव का एहसास नहीं कराया। सेट पर मौजूद क्रू को इस बात की परवाह नहीं थी कि मैं किससे संबंधित हूं, उन्हें इस बात की परवाह थी कि हमें क्या काम देना है। दबाव बाहर से आता है। इस फिल्म की शूटिंग करना बेहद सुखद और शांतिपूर्ण अनुभव रहा।

स्टार परिवार से आने के बावजूद भी आप खुद को स्टार किड नहीं मानती हैं। ऐसा क्यों ?
जवाब- मैं खुद को एक सुपरस्टार के बच्चे जितना प्रासंगिक नहीं मानती। इसका मतलब यह नहीं है कि मैं इंडस्ट्री किड नहीं हूं। सच कहूं तो लोग बचपन से मुझ पर नजर नहीं रख रहे थे, जैसा कि वे किसी बड़े सेलिब्रिटी बच्चे के ऊपर रखते होंगे। मुझे अपनी प्रेजेंस दर्ज करानी थी। हालांकि मुझे नहीं लगता कि इंडस्ट्री मुझमें बड़े स्टार्स के बच्चों की तरह दिलचस्पी रखती है।

[ad_2]

Source link

Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *